शहर की शरारत, गांव का हुड़दंग/ City mischief, village hood

#sundaythought #lifelesson #city&village_life #adityamishravoice

कभी कभी जब वक्त मिलता है, तो खुले आसमान की तलाश में छत पर आ जाता हूँ। कसम से बड़ा सुकून मिलता है, हवा साफ तो नहीं है पर ठंडी जरूर मिलती है। रहन सहन में जब से बदलाव आया है, कदम उठाने में भी गिनती करनी पड़ती है।

इस खुले आसमान में और अपने से छोटी- ऊंची इमारतों के बीच खुद को बौना महसूस करता हूँ। कभी कभी लगता है, चलो भाग चलें यहाँ से, फिर उन्हीं बागों में जहाँ खेलते खेलते शाम हो जाया करती थी। शहर आकर हम स्मार्ट तो हो गये हैं, पर खुद को कहीं छोड़ आये हैं। अब तो बस हम भी इसी रेस में दौड़ रहे हैं, पता है या शायद नहीं कि कहाँ जा रहे पर, इस बात का सुकून है कि किसी से पीछे नहीं हैं।

सुकून हमसे कुछ दूर जा चुका है, हमारे पास आ चुका है, शहर का ट्रैफिक, घर के पास की तंग गलियां और भागदौड़ के बीच खुद को खड़ा रखने की हिम्मत आ गई है। जिंदगी का खुलापन और मासूमियत खत्म होती जा रही है। हम खुद को किसी एक चीज के इर्द-गिर्द केंद्रित कर रहे हैं। बदलाव से हमें डर लगता है और हालातों से हमें लड़ने की आदत हो गई है।

लेकिन इन सबसे हटकर हर दिन अपने आप को बेहतर करने का जुनून नजर आता है। हम भीड़ में दौड़ते तो हैं, लेकिन उस भीड़ में अपनी पहचान भी बनाने की कोशिश लगातार रहती है। हमें कुछ बदलने से डर तो लगता है, लेकिन आज भी हम हर दिन अपनी किस्मत बदलने का जज्बा रखते हैं। लहरों से टकराना और पार उतर जाना, शायद यहीं आकर सीखा है। इन सबसे हटकर आज भी अपने अंदर वही छोटा बच्चा महसूस करता हूं, जो गांव की मिट्टी में खेलता कूदता, गंदे कपड़ों से सना हुआ, जब घर को वापस आता था। तब मां थोड़ी डांट फटकार के बाद फिर से नहला धुला कर राजा बेटा बना देती थी।

Sometimes when I get time, I come to the terrace in search of open sky. I feel very relaxed by swearing, the air is not clean but it definitely gets cold. Ever since there has been a change in living conditions, steps have to be taken to count.

I feel dwarfed in this open sky and among the tall buildings. Sometimes it seems, let’s run away from here, then go to the same gardens where we used to play in the evening. We have become smart after coming to the city, but have left ourselves somewhere. Now, we are also running in the same race, do not know or may not know where we are going but it is reassuring that we are second to none.

Relax has gone some distance from us, has come to us, the traffic of the city, the tight streets near the house and the courage to keep ourselves standing amidst the runaway. Life’s openness and innocence are ending. We are centering ourselves around one thing. We are scared of change and we have become used to fighting the situation.

But aside from this, there seems to be a passion to improve yourself every day. We run in a crowd, but there is a constant effort to establish our identity in that crowd. We are afraid of changing something, but even today we have the passion to change our fate every day. It is learned here to hit the waves and get across. Apart from all of this, I still feel the same small child inside me, who used to jump in the mud of the village, stained with dirty clothes, when coming back home. The mother then bathed me again after a scolding and made her son “raja beta”.

Adityamishravoice

2 thoughts on “शहर की शरारत, गांव का हुड़दंग/ City mischief, village hood

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s