एक दुख ऐसा भी/ virtual sadness

दुख का कोई निश्चित दायरा नहीं है, आप किसी भी छोटे बड़े कारण पर दुखी हो सकते हैं। आजकल एक नई तरीके का दुख हमें ज्यादा दिखाई दे रहा है। मामला आधुनिकता भरे वर्ल्ड से जुड़ा हुआ है, जिसे सोशल मीडिया भी कहते हैं। एक मित्र ने नया-नया टि्वटर अकाउंट बनाया, लेकिन इस महीने में ही खीझ कर हमारे पास समस्या लेकर आ गए।

पूछने पर पता चला कि 1 महीने में सिर्फ 10 followers मिले हैं और ट्वीट को कोई भी लाइक रिट्वीट नहीं करता। दर्द और लाचारी उनके चेहरे पर साफ झलक रही थी। मित्र हमारे पेशे से विद्यार्थी हैं, यूपीएससी की तैयारी भी कर रहे हैं। बेहतर अपडेट लेने के लिए ट्विटर अकाउंट का सुझाव मेरा ही था, इसीलिए अब शिकायती कठघरे में मैं ही खड़ा हूं।

उनकी व्यथा की लिस्ट लंबी थी, लोग उन्हें फॉलो करके, फॉलो बैक मिलने के बाद अनफॉलो कर दे रहे थे। उनकी भाषा में इसका मतलब समझे तो दोस्ती की तरफ हाथ बढ़ाओ, हाथ मिलाओ और फिर उसी हाथ को मरोड़ दो। इसके पीछे उनका तर्क भी था, उन्होंने कहा कि लगभग सभी लोगों के BIO में 100% followback स्वर्ण अक्षरों में लिखा होता है। ऐसे में उनका परेशान होना लाजमी था।

इसके अलावा उन्होंने कहा कि ट्वीट करने के बाद एक लाइक तक नहीं मिलता, रिट्वीट तो दूर की बात है। थोड़ा मुझसे विशेष गुस्से में इसलिए कह रहे थे क्योंकि मैं भी उनके ट्वीट को कभी like-retweet नहीं करता।

मैंने धीरे-धीरे उनकी समस्या को और समझना चाहा, तो पता चला कि यह समस्या सार्वजनिक है। इसके लिए उनकी नजर में सिर्फ ट्विटर दोषी नहीं है, बल्कि लगभग सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म अपराधी हैं। उदाहरण के लिए Facebook की भागीदारी भी इसमें कम नहीं है।

वास्तव में मित्र हमारे UPSC के खुमार में रहते हैं, पढ़ाई के दौरान किसी दिलचस्प विषय पर अक्सर लंबा चौड़ा लेख पोस्ट कर देते हैं। अब लोग तो खाली होते हैं, पर इतना भी नहीं कि पूरा पढ़ें। फिर like, comment और share करें. इसीलिए उनकी पोस्ट पर प्रायः 10-12 लाइक ही आते हैं, जबकि कभी-कभार जब वह अपनी पोस्ट में फोटो शेयर करते हैं तो यह संख्या 100 के करीब पहुंच जाती है। ऐसे में सोशल मीडिया के इस दोगले रुप से वह काफी परेशान नजर आए।

यह उनकी अकेले की समस्या नहीं है, आप अगर अपने आसपास नजर दौड़ आएंगे तो भारी संख्या में लोग इससे प्रभावित मिलेंगे। सोशल मीडिया पर मनोरंजन धीरे-धीरे इंगेजमेंट का भूखा होने लगा है। पोस्ट की महत्ता लाइक कमेंट तक सीमित हो गई है, फिर यही expectation निराशा का कारण बन जाती है। बार बार इस तरह की घटनाओं सामना करने वाले लोग अक्सर अपनी सोशल लाइफ से दूर होने लगते हैं, जो एक बड़ी समस्या है।

Digital comparison हमें लगातार कमजोर करता जाता है जबकि वास्तविकता से उसका कोई सीधा संबंध नहीं है। सोशल मीडिया आज सामाजिक हैसियत का पैमाना बनता जा रहा है। ज्यादा फॉलोअर मतलब ज्यादा काबिलियत, ऐसे में लोग इसी के पीछे भाग रहे हैं। दिखावा और कुछ दिखावे का प्रोत्साहन दोनों जरूरी हो जाता है। हम एक पोस्ट करने के बाद इंतजार करते हैं कि उस पर लोगों का रिएक्शन कैसा है! अगर मनचाहा लाइक और कमेंट नहीं मिलता, तो हम परेशान हो जाते हैं।

वास्तव में सोशलमीडिया के हम कठपुतली बनते जा रहे हैं, आज के दौर में मायामोह का मतलब – social media.

There is no definite scope for grief, you can be unhappy at any small or big reason. Nowadays a new way of sorrow is more visible to us.The case is related to the modern world, which is also called social media. A friend created a new Twitter account, but in a month itself, he came to me with problems.

When asked, it was found that only 10 followers have been received in 1 month and no engagement is there such as retweets and likes.Pain and helplessness were evident on his face. He is student & preparing for UPSC.To get better updates, the suggestion of Twitter account was mine, that is why I am standing in the complaint box.

His list of agony was long, People were following him and unfollowing after getting a follow back.If you understand its meaning in his language, then extend your hand towards friendship, shake hands and then twist the same hand. His reasoning was also behind this, he said that 100% followback is written in BIO of almost everyone. In such a situation, he was bound to get upset.

Apart from this, he said that one does not get a like after tweeting, getting retweet is a distant thing. He was telling me in particular anger because I also never like-retweet his tweets.

I slowly wanted to understand his problem more, then I came to know that it is a general issue.For him, Twitter is not the only culprit, but almost all social media platforms are criminals.For example, Facebook’s participation is also not less.

In fact, my friend lives in the dugout of UPSC, often he posts long articles on an interesting topic during his studies. Now people have time, but not enough to read the whole.

This is not single person problem, if you run around you, then a large number of people will get affected by it. social media is slowly becoming hungry for engagement. The importance of the post is limited to like comments, then this expectation becomes a cause for disappointment.

People facing such incidents again and again often start to get away from their social life, which is a big problem. Digital comparison constantly weakens us while it has no direct relation to reality. Social media is becoming a measure of social status today.

More followers means more Powerful.

Both pretense and some show of become necessary. We wait after posting how people react to that! If we do not get the likes and comments we want, then we get upset.

In fact, in social world we are becoming puppets, in today’s era, the meaning of mayhem is – social media.

Adityamishravoice
Twitter

17 thoughts on “एक दुख ऐसा भी/ virtual sadness

  1. Good post – and I think that’s very sad. While I can’t say I wouldn’t like to be younger, I am glad that I’m old enough that social media is not something I grew up with and hence isn’t something that I tie my identity and self-worth to at all. I think it must be hard for your generation.
    Of course, having said that, I still like getting likes – and I thank you for liking my poem. 🙂

    Liked by 2 people

  2. Thank god someone covered this topic. You have something in your writings and thoughts. When I clicked on your link I thought that this is something I know about already, but the way you wrote it and the way you put your points, it’s amazing.
    Keep it up brother

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s