पहला हादसा, पहला स्नान

है कौन विघ्न ऐसा जग में, टिक सके आदमी के मग में.
मानव जब जोर लगाता है, पत्थर पानी बन जाता है.

यह कविता गर्मी में खून को और गर्म करने के लिए अच्छी है. पर जब ठंडी शुरू होती है तो, यही पत्थर का पानी कहर बनकर टूटता है. वास्तव में ठंडी का असली विलेन पानी ही होता है. आप इसकी चौड़ को आसानी से समझ सकते हैं. कहीं अगर एक बूंद भी पड़ा हो तो, अपनी जात दिखा देता है. छूते ही बदन में कंपकपी छोड़ जाता है.

गर्मी में तो धूप आते ही अक्सर गायब हो जाता था, पर ठंडी में यही धूप बेकार हो जाती है. वैसे इतने तक तो ठीक है, असली परीक्षा नहाने में होती है.

बाल्टी में पड़ा पानी मुंह फाड़ कर आप को निहारता रहता है. ऊपर उठती भाप डर को और बढ़ा देती है. पहला लोटा डालना बिल्कुल एवरेस्ट चढ़ने जैसा है. यह पड़ाव अगर पार कर गए तो आगे की राह थोड़ी आसान हो जाती है. लेकिन जैसे एवरेस्ट चढ़ना इतना आसान नहीं होता, वैसे ही पहला पानी डालना भी बच्चों का खेल नहीं है.

पहले प्यार को पहली बार दिल की बात बताने से ज्यादा मुश्किल होता है. आसान भाषा में समझे तो अपने हाथ खुद को हलाल करने जैसा है.

पानी शरीर पर पड़ते ही उछल कूद भी शुरू हो जाती है. मुंह से हनुमान चालीसा अपने आप बाहर आने लगता है. साथ ही निर्जीव सा पड़ा आदमी सुपरसोनिक जेट सा एक्टिव हो जाता है. पहला पानी पड़ने के साथ ही कब बाल्टी खत्म हो जाती है, पता नहीं चलता. जल्दी-जल्दी पानी से खुद को अलग किया जाता है. इस पूरे कार्यक्रम में ठंड धीरे-धीरे कम होती जाती है.

बाल्टी में भरा पानी संगठित था, इसीलिए डरा रहा था. पर जैसे ही बिखरा, उसके परखच्चे उड़ गए. आदमी यहां विजयी हो गया. इसीलिए कहा गया है-

सूरमा नहीं विचलित होते, क्षण एक नहीं धीरज खोते.
पानी को गले लगाते हैं, ठंडी में भी नहाते हैं.

Adityamishravoice

24 thoughts on “पहला हादसा, पहला स्नान

  1. Hahaha क्या ख़ूब विश्लेषण किया है। मज़ा आ गया पढ़ कर और ठंड के मौसम का असली मज़ा तो तभी आता है जब ठंडे ठंडे पानी का स्पर्श हो। 💯🤗

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s