कला कलम की

लेखक कागज को मोड़कर, शब्दों को जोड़कर अक्सर एक आकार देने निकल पड़ता है। कलम का हाथ थामे ना जाने किन किन रास्तों से होता हुआ, कहां पहुंच जाता है! शब्दों की एक लंबी कतार सी लग जाती है, उनके बीच आवाज तो नहीं होती लेकिन बहुत कुछ सुनाई दे जाता है। धीरे धीरे इन […]

Read More कला कलम की

Netflix, Dark Series: Time is God

समय का अपना महत्व है और उसके हर एक पल की गिनती लगातार जारी रहती है। भूत, भविष्य और वर्तमान का निर्धारण भी हर दिन होता है। हमारा आज का एक कदम बीते कल से प्रभावित होता है और आने वाले कल को बनाता है। नेटफ्लिक्स पर उपलब्ध एक सीरीज इसी कड़ी को जोड़ने का […]

Read More Netflix, Dark Series: Time is God

1983 world Cup full story

भारत में भी तक दो बार वर्ल्ड कप में अपनी बादशाहत कायम की है। शुरुआत हुई थी 1983 में, जब कपिल देव की कप्तानी में भारतीय टीम ने वेस्टइंडीज को फाइनल मुकाबले में 43 रनों से हराकर जीत दर्ज की। यह ऐतिहासिक मैच रहा, जिसमें 25 जून 1983 को पहले ऑल आउट होने के बाद […]

Read More 1983 world Cup full story

राजा-रानी: कविता-कहानी

Full poetry link given below: यह एक प्रयास है कलम को आकार देने का, बदलते दौर की परिभाषा समझने का. हम एक राजा को सुनते थे, हम एक रानी को गुनते थे.वह अपनी एक कहानी थी, जिसमें एक राजा रानी थी. Link-: राजा-रानी वाली कहानी Adityamishravoice Twitter- @voiceaditya

Read More राजा-रानी: कविता-कहानी

चुनाव और कोरोना

जिस कोरोना वायरस के 500 से नीचे आंकड़े निकलने पर सब कुछ बंद करने की रणनीति बनने लगी थी। आज की तारीख में हर दिन लगभग 10000 मामले सामने आ रहे हैं, पर अब चेहरे पर शिकन नहीं है। सही बात है ज्यादा चिंता करना सिर के बाल और सर जी का हाल दोनों खराब […]

Read More चुनाव और कोरोना

सुबह 4:00 बजे की बारिश

#worldenvironmentday #बारिश #हिंदी #पर्यावरणदिवस #fridaymorning सूरज दरवाजे पर दस्तक देने वाला था और चिड़ियों का एक झुंड तैयार हो रहा था। तभी सुबह की पहली किरण से पहले बूंद बरसने लगी। सुबह का यह ऐसा वक्त होता है, जब गहरी नींद भी आती है और गहरा तप भी किया जाता है। कुछ लोगों के अनुसार […]

Read More सुबह 4:00 बजे की बारिश

कुछ बातें काम की/ how to stopOverthinking

#Overthinking #coronaTime #blogger #optimistic खुद के उल्टे सीधे ख्यालों को रस्सी से जकड़ कर कहीं बांधने की कोशिश कर रहा हूं, लेकिन हो नहीं पा रहा है। इनमें इतनी ताकत है कि घसीटते घसीटते मुझे काफी दूर तक ले आए हैं। जहां इतना अंधेरा है कि कुछ समझ नहीं आ रहा है.. किधर से आए […]

Read More कुछ बातें काम की/ how to stopOverthinking

कौन हैं ये

#CoronaImpact #lockdown #HindiBlog #lifestruggle ट्रेन में क्लास तो कई होते हैं, लेकिन उन्हें सिर्फ जनरल डिब्बा ही नसीब होता है। किसी बड़ी फैक्ट्री के मालिक नहीं है, कोई उसी फैक्ट्री में काम करता है तो कोई वहां से निकले हुए प्रोडक्ट को ठेले में सजाकर गली-गली बेचता है। शहर में इनकी कोई बड़ी कोठी नहीं […]

Read More कौन हैं ये

मैन इन मास्क

#mask #Corona_effect #blog #hindi #adityamishravoice हठ कर बैठा चांद एक दिन माता से यह बोला,सिलवा दे मां मुझे ऊन का मोटा एक झिंगोला. अगर रामधारी सिंह दिनकर जी ने आज यह कविता लिखी होती तो शायद चंदा मामा झिंगोला नहीं मास्क मांग रहे होते। खैर अभी तो मास्क लगाने की बारी हमारी है। धीरे-धीरे यह […]

Read More मैन इन मास्क

Inside Out: Peace

#Motivation #Peace #Blogger #chill #lockdown When an example is used to explain the word peace, mental peace will come first in the list. It simply means that there is no worry in our thinking and understanding. When something keeps haunting our mind again and again, the good and bad consequences associated with it make us […]

Read More Inside Out: Peace