खेला होबे या कोरोना… डर काहे का

भारत विविधताओं का देश है बचपन से पढ़ा था, देखने का अवसर भी मिल गया. उम्मीदों की गाड़ी झारखंड से स्टार्ट की, चलते चलते मोड़ कई आये पर ब्रेक नहीं लगा. पर अचानक एक चौराहे पर कुछ सुरक्षा और कानून व्यवस्था के जवानों ने दस्तक दी, कारण मेरी मुस्कुराहट नहीं थी. चेहरे पर न मास्क […]

Read More खेला होबे या कोरोना… डर काहे का

चुनाव के दिन, तेरे बिन

यह आखिरी दिन था चुनाव प्रचार का और हमारी मोहब्बत का भी। पिछले 6 महीने से हम एक दूसरे को बहुत पसंद कर रहे हैं। बिन कहे तारीफ हो रही है और बिन मांगे मुराद मिल रही है। थोड़े समय के लिए ही सही लेकिन यह मोहब्बत समाज के लिए मिसाल जैसी है। सोचो अगर […]

Read More चुनाव के दिन, तेरे बिन

किसान हो, मजाक मत करो

“अच्छा, और वह गाड़ी किसकी है? यह कपड़े, चप्पल यह सब तुम्हारा ही है! किसान तो नहीं लगते तुम. रुको, अभी किसान दिखाता हूं.” साहब ने किसी को आवाज दी, उधर से धीरे-धीरे एक हाड मांस का शरीर आता दिखाई दिया. तन पर कपड़ों से ज्यादा चमड़ी लटक रही थी. पतला दुबला पैर और कमर […]

Read More किसान हो, मजाक मत करो

On Line से Online की ओर

खाने से लेकर खजाने तक की जरूरत हो आज इंटरनेट पूरी कर रहा है. आप घर बैठकर बिना कुछ किए, बहुत कुछ करने के भ्रम में रहते हैं. हम जब से डिजिटल हुए हैं, तभी से हमारा संसार छोटा हो गया है. पहले सब कुछ देखने के लिए कांच के ऐनक का इस्तेमाल होता था, […]

Read More On Line से Online की ओर

Tv debate recipe

पाकिस्तान, हिंदू मुस्लिम, विपक्ष जैसे मुद्दों को सबसे पहले बाजार से चुना जाता है. फिर उसमें थोड़ा कॉन्ट्रोवर्सी की बौछार की जाती है. एक पॉपुलर एंकर के हाथों इसे सजाया जाता है, कुछ अच्छे कंटेंट राइटर से भड़काऊ पंक्तियां और पंच लाइन लिखवाई जाती हैं. इन सब को एडिटिंग के तड़के के साथ थोड़ी देर […]

Read More Tv debate recipe

चुनाव और कोरोना

जिस कोरोना वायरस के 500 से नीचे आंकड़े निकलने पर सब कुछ बंद करने की रणनीति बनने लगी थी। आज की तारीख में हर दिन लगभग 10000 मामले सामने आ रहे हैं, पर अब चेहरे पर शिकन नहीं है। सही बात है ज्यादा चिंता करना सिर के बाल और सर जी का हाल दोनों खराब […]

Read More चुनाव और कोरोना